Jodhpur Foundation Day: आज राजस्थान का जोधपुर मना रहा 564वां स्थापना दिवस, जानें सूर्य नगरी की खास बातें

रणबाकुरों की भूमि राजस्थान अपने आप में वीरता और शौर्यता छिपाए हुए है। यहां का इतिहास बेहद ही निराला है। राज्य के 33 जिलों की अपनी एक गाथा है। जिनमें सूर्य नगरी जैसलमेर की तो बात ही कुछ और है। राजस्थान के लिए 12 मई का विशेष महत्व है क्योंकि, आज ही के दिन राज्य के जोधपुर जिले की स्थापना हुई थी। 

आज राजस्थान का जोधपुर मना रहा 564वां स्थापना दिवस, जानें सूर्य नगरी की खास बातें
Jodhpur Foundation Day

जोधपुर | रणबाकुरों की भूमि राजस्थान अपने आप में वीरता और शौर्यता छिपाए हुए है। यहां का इतिहास बेहद ही निराला है। राज्य के 33 जिलों की अपनी एक गाथा है। जिनमें सूर्य नगरी जैसलमेर की तो बात ही कुछ और है। राजस्थान के लिए 12 मई का विशेष महत्व है क्योंकि, आज ही के दिन राज्य के जोधपुर जिले की स्थापना हुई थी। 

आज जोधपुर मना रहा अपना 564वां स्थापना दिवस
सूर्य नगरी के नाम से जग प्रसिद्ध जोधपुर आज अपना 564वां स्थापना दिवस मना रहा है। कभी जोधपुर शहर ऐतिहासिक रजवाड़े ‘मारवाड़’ की राजधानी हुआ करता था। आइए जोधपुर के स्थापना दिवस पर जानते हैं इस निराले शहर की खास बातें...

जोधपुर महलों, दुर्गों और मन्दिरों का शहर है। यहां का विश्व प्रसिद्ध मेहरानगढ़ किला बाहर से आने वाले लोगों के लिए राजस्थान की वीरता की छाप छोड़ता है। हर साल यहां लाखों की संख्या में देशी और विदेशी सैलानी आते हैं। कहा जाता है कि, राजस्थान में सूर्य की पहली किरण सबसे पहले जोधपुर में ही पड़ती है। इसलिए इस शहर को सूर्यनगरी भी कहा जाता है। राजस्थान के जोधपुर जिले में रजवाड़े के साथ-साथ आधुनिकता का संगम भी दिखता है। यहां के पुराने किले जहां  अपनी स्थापत्य कला का अद्भुत नमूना पेश करते है तो वहीं,  भव्य और आधुनिक इमारतें यहां आने वाले लोगों को नई सुविधा का अहसास कराती है। यहां उम्मेद भवन पैलेस सहित कई बड़े होटल के साथ डेस्टिनेशन वेडिंग के लिए एक से बढ़कर एक महत्वपूर्ण स्थान भी है। अब तो जोधपुर में हॉलीवुड, बॉलीवुड समेत देश के नामी-गिरामी बिजनेसमैन डेस्टिनेशन वेडिंग और जन्मदिन की पार्टियां एंजॉय करने के लिए आते हैं। जोधुपर बॉलीवुड और हॉलीवुड इंडस्ट्री के लिए भी पहली पंसद के तौर पर देखा जाता है। यहां पर कई बड़ी-बड़ी फिल्मों की शूटिंग चलती रहती है।

ये भी पढें:- Communal Violence: राजस्थान के हनुमानगढ़ में तनाव, VHP नेता पर हमला, कार्यकर्ताओं में जबरदस्त आक्रोश

जोधपुर का एक और नाम ब्लू सिटी भी है। जोधपुर की हर बात निराली है। यहां का खान-पान जग प्रसिद्ध है। यहां की मावे की कचोड़ी और मिर्ची बडा जायके में तड़का लगा देते हैं। बता दें कि, 1947 में, जब देश आजाद हुआ तब राज्य संघ में विलय हो गया और जोधपुर राजस्थान का दूसरा सबसे बड़ा शहर बन गया। बाद में राज्य पुनर्गठन अधिनियम, 1956 के बाद इसे राजस्थान राज्य के भीतर शामिल किया गया।

आपको बता दें कि, जोधपुर में भी राजस्थान उच्च न्यायालय स्थित है। जिसके चलते इसे न्यायिक राजधानी भी कहा जाता है। जोधपुर में पूरे राजस्थान के प्रसिद्ध विभाग जैसे मौसम विभाग, नार्काेटिक विभाग सीबीआइ, कस्टम, वस्त्र मंत्रालय आदि मौजूद है। यहां शैक्षणिक संस्थानों की भी भरमार है। जिनमें सबसे प्रमुख एम्स जोधपुर, आईआईटी जोधपुर, एसएनएमसी जोधपुर, डीएसआरआरएयू जोधपुर, एनएलयू जोधपुर, एनआईएफटी जोधपुर हैं। यहां भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन, रक्षा अनुसंधान समेत कई शोध संस्थान हैं। जो देश की तरक्की में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं।

ये भी पढ़ें:- Taj Mahal Row: ताजमहल पर जयपुर राजघराने ने जताया हक! दीया कुमारी ने कहा- हमारे पास है इसके पुख्ता सबूत

Must Read: डीआईजी शेखावत ने फलोदी जेल से कैदी भागने के मामले में पुलिस जवानों को माना दोषी, 4 को किया निलंबित

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :