आज हो सकते हैं बड़े फैसले: खाटूश्यामजी हादसा, कई अधिकारियों पर गाज, हुए सस्पेंड, सीएम गहलोत ने बुलाई बैठक

Khatu Shyam Ji Incident: सीकर जिले में स्थित विश्वविख्यात मंदिर खाटूश्यामजी में मची भगदड़ हादसे के बाद अब राज्य सरकार एक्शन में आ गई है। इस हादसे के बाद कई विधायकों और संगठनों ने भी मोर्चा खोल दिया है। ऐसे में सीएम अशोक गहलोत सरकार ने बढ़ा कदम उठाया है।

खाटूश्यामजी हादसा, कई अधिकारियों पर गाज, हुए सस्पेंड, सीएम गहलोत ने बुलाई बैठक

सीकर | Khatu Shyam Ji Incident: सीकर जिले में स्थित विश्वविख्यात मंदिर खाटूश्यामजी में मची भगदड़ हादसे के बाद अब राज्य सरकार एक्शन में आ गई है। इस हादसे के बाद कई विधायकों और संगठनों ने भी मोर्चा खोल दिया है। ऐसे में सीएम अशोक गहलोत सरकार ने बढ़ा कदम उठाया है। इस हादसे को लेकर अब कई अधिकारियों पर गाज गिर गई है। सोमवार को हादसे के बाद एसएचओ रिया चौधरी को सस्पेंड कर दिया गया था।

अधिकारियों पर गाज, हुए सस्पेंड
खाटूधाम हादसे में मची भगदड़ में तीन महिला श्रद्धालुओं की मौत हो गई थी और कई श्रद्धालु घायल हुए थे। ऐसे में प्रशासन की लापरवाही को देखते हुए खाटूश्यामजी थानाप्रभारी रिया चौधरी को सस्पेंड करने के बाद अब दांतारामगढ़ एसडीएम राजेश मीणा और रींगस पुलिस उपाधीक्षक सुरेन्द्र सिंह को भी देर रात सस्पेंड कर दिया गया है। 

ये भी पढ़ें:- Muharram 2022: यहां ताजिया जुलूस दौड़ा करंट, 2 लोगों की मौत, कई घायल अस्पताल में भर्ती

सीएम गहलोत ने बुलाई बैठक, लिए जा सकते हैं बड़े फैसले
वहीं दूसरी ओर, खाटूश्यामजी हादसा मामले में वहीं मामले सीएम अशोक गहलोत आज बुधवार को दोपहर 12 बजे अपने आवस पर अहम बैठक करने जा रहे हैं। सीएम गहलोत की अध्यक्षता में होने वाली इस बैठक में कई प्रशासनिक विभाग के अधिकारी जिनमें पर्यटन विभाग, मेला प्राधिकरण और देवस्थान विभाग शामिल होंगे। इस बैठक में धार्मिक आयोजनों, मेलों को लेकर कई बड़े फैसले लिए जाने की संभावना है। 

ये भी पढ़ें:- Khatu Shyam Ji News: प्रशासन का बड़ा एक्शन, अब 24 घंटे खुले रहेंगे श्यामबाबा मंदिर के पट! मार्गों से हटवाए अतिक्रमण

अब 24 घंटे मंदिर के पट खुले रखने का निर्णय
प्रशासन ने सोमवार को हुए हादसे से सबक लेते हुए प्रशासन ने अब श्रद्धालुओं की भीड़ बढऩे पर मंदिर के पट 24 घंटे खुले रखने का निर्णय लिया है। इस संबंध में कलक्टर अविचल चतुर्वेदी ने बताया कि, इससे मंदिर में आने वाली भीड़ का दबाव कम हो सकेगा। साथ ही श्रद्धालुओं को भी दर्शन करने में सुविधा रहेगी। इसके अलावा मेले के दौरान श्रद्धालुओं की आवाजाही के लिए वैकल्पिक मार्गों को भी खोजा जा रहा है।

Must Read: MLA संयम लोढ़ा ने कहा, लंपी स्कीन डिजीज को लेकर सरकार गंभीर, उपचार में नही हो कौताही 

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :