राजनीतिक गलियारों में हलचल: 200 वाहनों के काफिले के साथ सचिन पायलट मिलने पहुंचे मृतक दलित छात्र के परिवार से, माना जा रहा शक्ति परीक्षण!

पूर्व डिप्टी सीएम और कांग्रेस के कद्दावर नेता सचिन पायलट ने भी अपनी ही सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा है कि दलितों के साथ हो रहे अत्याचार के खिलाफ गहलोत सरकार को बड़ा कदम उठाना चाहिए। सचिन पायलट मृतक छात्र के परिवार से मिलने सुराणा गांव पहुंचे तो उनके साथ करीब 200 गाड़ियों का काफिला भी मौजूद रहा।

200 वाहनों के काफिले के साथ सचिन पायलट मिलने पहुंचे मृतक दलित छात्र के परिवार से, माना जा रहा शक्ति परीक्षण!

जालौर | राजस्थान के जालौर के सुराणा गांव के टीचर की पिटाई से दलित छात्र की मौत का मामला राष्ट्रीय स्तर तक गूंज रहा है। ऐसे में प्रदेश के पूर्व डिप्टी सीएम और कांग्रेस के कद्दावर नेता सचिन पायलट ने भी अपनी ही सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा है कि दलितों के साथ हो रहे अत्याचार के खिलाफ गहलोत सरकार को बड़ा कदम उठाना चाहिए। सचिन पायलट मृतक छात्र के परिवार से मिलने सुराणा गांव पहुंचे तो उनके साथ करीब 200 गाड़ियों का काफिला भी मौजूद रहा। इस दौरान उनका मार्ग में कई जगहों पर कार्यकर्ताओं ने स्वागत भी किया। जिसे राजनीतिक गलियारों में  उनके शक्ति परीक्षण के तौर पर देखा जा रहा है। 

हम दलित समाज के साथ खड़े हैं...
सचिन पायलट मृतक छात्र के परिवार से मिल उन्हें सांत्वना दी और कहा कि, इस प्रकार की घटनाओं पर हमें हमेशा के लिए अंकुश लगाना होगा, क्योंकि इन घटनाओं सेे देश-प्रदेश में दुख की भावना जेहन में आती है। बच्चे को टीचर ने इस तरह मारा कि उसकी मौत हो गई। इससे ज्यादा दुख की बात और क्या होगी? उन्होंने कहा कि दलित समाज में हमें विश्वास जगाना होगा कि हम उनके साथ खड़े हैं।

ये भी पढ़ें:- Good News: देश में कोरोना धड़ाम! आज सामने आए सिर्फ 9,062 नए मामले, राजस्थान में भी घटे संक्रमित

राज्य सरकार तत्परता से करे कार्रवाई
पायलट ने कहा की मृतक छात्र के पिता का कहना है कि उनके परिवार के साथ पुलिस ने गलत व्यवहार किया। यहां तक कि एडीएम पर भी आरोप लग रहे हैं। ऐसे में राज्य सरकार को इस घटना पर गंभीरता दिखानी चाहिए और तत्परता से कार्रवाई करनी चाहिए। सिर्फ कानून बनाने, नियम बनाने या भाषण देने और कार्रवाई से कुछ नहीं होगा। दलित समाज को विश्वास दिलाने के लिए हमें कुछ करना पड़ेगा। इस तरह की घटना दोबारा न हो इसे भी सुनिश्चित करना होगा।

ये भी पढ़ें:- अणगौर बांध का निरीक्षण: सिरोहीवासियों को उपलब्ध होगा 48 घंटे में पेयजल, विधायक संयम लोढा ने की कलक्टर से बात

माना जा रहा पायलट का शक्ति परीक्षण!
जब सचिन पायलट सुराणा गांव पहुंचे तो उनके साथ करीब 200 गाड़ियों का काफिला होने की जानकारी सामने आई है। पायलट के साथ इस दौरान वनमंत्री हेमाराम चौधरी, तीन विधायक और कांग्रेस पार्टी के कई नेता और कार्यकर्ता भी मौजूद थे। गौरतलब है कि, राज्य की अशोक गहलोत सरकार से खफा चल रहे सचिन पायलट को गहलोत गुट के खिलाफ जाने के चलते डिप्टी सीएम का पद गंवाना पड़ा था। सीएम गहलोत भी अपने बयानों के तीर लगातार बिना नाम लिए अपने विरोधियों पर छोड़ते रहते हैं। ऐसे में सचिन पायलट का अपनी सरकार के खिलाफ आवाज उठाना और इतने बड़े काफिले के साथ सुराणा पहुंचना राजनीतिक महकमें में हलचल पैदा करने वाला है।

ये भी पढ़ें:- गुस्साए ग्रामीणों ने जाम लगाया: राजस्थान में फिर मॉब लिंचिंग! अलवर में सब्जी का ठेला लगाने वाले को बेरहमी से मार डाला

Must Read: प्रदेश में बढ़ते अपराध पर भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने सीएम पर लगाया जंगलराज का आरोप

पढें राजनीति खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :