चिकित्सकों के नाम भी उर्दू में: योगी आदित्यनाथ का बड़ा फरमान! यूपी में अब सभी अस्पतालों का नाम लिखा जाएगा उर्दू में

भवनों के नाम के अलावा चिकित्सकों और कर्मचारियों के नाम और पदनाम भी हिंदी के साथ उर्दू में भी लिखने के निर्देश दिए गए हैं।

योगी आदित्यनाथ का बड़ा फरमान! यूपी में अब सभी अस्पतालों का नाम लिखा जाएगा उर्दू में

लखनऊ | उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने एक बड़ा फैसला लेकर कई लोगों को चौंका दिया है। योगी सरकार ने आज शुक्रवार को एक आदेश जारी कर यूपी के सभी सरकारी अस्पतालों के नाम हिंदी के साथ-साथ उर्दू में भी लिखे जाने का फैसला किया है। सरकार की ओर से जारी आदेश के बाद अब यूपी में सभी सरकारी अस्पतालों के नाम उर्दू में भी लिखे जाएंगे। 

चिकित्सकों-कर्मचारियों के नाम और पदनाम भी उर्दू में होंगे
सरकार के इस फैसले के संबंध में स्वास्थ्य निदेशक की ओर से सभी सीएमओ को निर्देश जारी कर दिए गए हैं। सरकार की ओर से जारी आदेशानुसार अब सभी जिला अस्पतालों और सीएचसी-पीएचसी के भवनों के नाम हिंदी के साथ-साथ उर्दू में भी लिखे जाएंगे। जारी आदेश में कहा गया है कि सभी सरकारी स्वास्थ्य केंद्रों, जिला हॉस्पिटल, सामुदायिक एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों के भवनों के नाम उर्दू में लिखवाए जाएं। यहीं नहीं, भवनों के नाम के अलावा चिकित्सकों और कर्मचारियों के नाम और पदनाम भी हिंदी के साथ उर्दू में भी लिखने के निर्देश दिए गए हैं।

ये भी पढ़ें:- NDRF टीम मौके पर : दिल्ली के आजाद मार्केट में धमाके के साथ गिरी चार मंजिला इमारत, कई लोग दबे, बचाव-राहत कार्य जारी

बता दें कि, उत्तर प्रदेश में 167 सरकारी जिला अस्पताल, 873 सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, 2934 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र हैं जिनका नाम अब उर्दू में भी लिखा जाएगा। प्रदेश की द्वितीय राजभाषा उर्दू है। इसको लेकर यह आदेश शासन की ओर से जारी का गया है।

ये भी पढ़ें:-  जानें कार्यक्रम का शेड्यूल: आज राजस्थान पधारेंगे केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह, सुरक्षा होगी चाकचौंबद, तनोट माता मंदिर में करेंगे दर्शन

Must Read: पार्थ हुए दगाबाज तो ममता सरकार भी आई एक्शन में, मंत्री पद से हटाया

पढें राजनीति खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :